Internet Kya Hai, Internet Ke Prakar – Best Explaination 2021

Internet Kya Hai, Internet Ke Prakar – Best Explaination 2021

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि Internet Kya Hai, Internet Ke Prakar और internet की शुरुआत कैसे हुई? तो आप ये आर्टिकल पूरा last तक जरूर पढ़े ताकि आपको इंटरनेट के बारे में बेहतर जानकारी मिल सकें।

आईये अब इंटरनेट को आसान भाषा में समझते हैं।

Internet Kya Hai, Internet Ke Prakar:

इंटरनेट क्या है? 

इंटरनेट विशाल नेटवर्क की एक ऐसी प्रणाली है जिसमे दुनियाभर के computers आपस में networks के माधयम से जुड़े होते है। यह ‘नेटवर्को का नेटवर्क’ कहलाता है जिसमे data transfer के लिए कुछ निश्चित नियम बनाये गए है जिन्हे TCP/IP (Transfer Control Protocol/Internet Protocol) कहा जाता है। 

Internet सूचना आदान-प्रदान करने का सबसे तीव्र माध्यम है। Internet कई छोटे-छोटे networks से मिलकर बना है इसलिए इसे internet या नेटवर्क का जाल कहते है।

इंटरनेट को तीन भागो में बांटा गया है – LAN, MAN, WAN में। 

LAN

यहाँ LAN का मतलब Local Area Network है। यानि यह Network का सबसे छोटा रूप है। इसको यू समझे- मान लीजिये किसी building में अलग-अलग स्थानों पर या एक पर कुछ computers मौजूद है।

अब उन सभी computers के बीच में data share करने network स्थापित करने के लिए उन्हें internet cable द्वारा आपस में connect लिया जाता है।

इस तरह उस building में रखे सभी computers के बीच में एक networks बन चुका है जो की सिर्फ उसी building तक ही सिमित है। इससे आगे यह network काम नहीं करेगा। इसलिए इसे LAN कहा जाता है। इसे सबसे तेज network भी कहा जाता है। 

MAN- 

जिस तरह हमने LAN को समझा की यह एक सबसे छोटा network है और इसका काम करने का दायरा भी सीमित है। इसलिए अगर इसकी limit को थोड़ा और बड़ा दिया जाये यानि इसमें कुछ और buildings या पूरे शहर की buildings में मौजूद सभी computers को आपस जोड़कर इस networks में शामिल कर लिया जाये तो यह एक बड़ा network बन जायेगा जिसे हम MAN या Matropoliton Area Network कहेंगे।

लेकिन इस network की speed, LAN के मुकाबले थोड़ी कम हो जाती है क्यूंकि इसमें information को आने- जाने के दौरान ट्रैफिक का सामना करना पड़ता हैं।

WAN- 

अगर पूरी दुनिया के सभी computers को आपस में network से connect कर दिया जाये तो यह एक विशाल network बन जायेगा जिसकी कोई सीमा नहीं है। इसलिए इसे WAN यानि Wide Area network कहते है। असल में इसे ही internet कहते है। 

WAN की स्पीड बाकि दोनों नेटवर्क के मुकाबले सबसे कम होती है। इसका कारण यह है क्यूंकि WAN के अंतर्गत Data को भारी traffic के बीच से होकर गुजरना पड़ता है जिसपर पहले से ही काफी मात्रा में data मौजूद रहता है। 

Internet का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला हिस्सा WWW (World Wide Web) है  जिसकी सबसे बड़ी विशेषता hypertext है जो की तत्काल cross-referencing का काम करता है।

यानि कि जब आप किसी web page पर मौजूद किसी अलग रंग के या underline किये गए text पर mouse pointer ले जाते है तो वो हाथ में बदल जाता है। जब आप उस text पर click करोगे तो वह text आपको किसी अन्य web page पर redirect कर देगा। 

Internet शुरुआत कैसे हुई?

Internet कि शुरुआत एक ऐसी प्रेरणा पर आधारित है जिसमे पूर्व सोवियत संघ और अमेरिका के बीच चल रहे वैचारिक शीत युद्ध के दौरान अमेरिका द्वारा अपनी सेना के लिए संचार प्रणाली उपलब्ध कराना और किसी आकस्मिक खतरे जैसे परमाणु हमले से महत्पूर्ण ठिकानों पर स्थित super computers और महत्वपूर्ण Data को सुरक्षित रखना था।

इसलिए 1960 में अमेरिका में रक्षा बल परियोजना के लिए ARPANET के रूप में internet की शुरुआत हुई। 
वैसे अगर देखा जाये तो Internet एक क्रमिक विकास का नतीजा है जिसमे बहुत सारे computer scientists, programmer और engineers का योगदान रहा है।

लेकिन web आधारित internet का अविष्कार एक ब्रिटिश कंप्यूटर विज्ञानी Tim Berners- Lee द्वारा सन 1980 में स्विट्जरलैंड स्थित CERN प्रयोगशाला में किया गया था। उन्होंने ही सर्वप्रथम www यानि world wide web की शुरुआत की। 

इससे पहले दुनिया का पहला electronic message 1969 में एक कंप्यूटर विज्ञान के प्रोफेसर लियोनार्ड क्लेनरॉक द्वारा केलिफोर्निया विश्वविद्यालय की प्रयोगशाला से Standard Research Institute पर भेजा गया। 

इसके बाद Internet के Protocol Suit जिसे हम TCP/IP भी कहते है की शुरुआत 1970 में Robert E. Kahn और Vint Cerf द्वारा की गई थी।  

अब बात करे 1990 के दशक के मध्यकाल की तो इस दौरान internet में एक क्रन्तिकारी बदलाव की शुरुआत हुई जिसमे e-mail, instant message, voice over internet protocol(VoIP), telephone calls, two-way interactive video call और www आधारित discussion forums, blogs, social networking और online shopping sites आदि प्रमुख सेवाएँ प्रारंभ हुई जिन्होंने internet को पूरी तरह से बदल दिया है। साथ ही इसमें अब भी लगातार बदलाव हो रहा है। 

At Last:
तो दोस्तों अब आप अच्छे से समझ गए होंगे होंगे की Internet Kya Hai, Internet Ke Prakar और internet की शुरुआत कैसे हुई। मैं उम्मीद करता हूँ कि ये आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। ये जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उन्हें भी ऐसी जानकारी प्राप्त हो सके। 
Thanks for visit here…

ये भी पढ़े –

Leave a Reply