Blogging Se Kitna Paisa Milta Hai? – Best Guide 2021

Blogging Se Kitna Paisa Milta Hai? – Best Guide 2021

blogging की शुरुआत करने से पहले एक नए ब्लॉगर के मन ये सवाल सबसे पहले आता ही हैं कि आखिर blogging se kitna paisa milta hai या ब्लॉगिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता हैं? क्या ब्लॉगिंग के पैसों से पूरे घर का खर्चा चल सकता हैं और क्या ब्लॉगिंग आपके सपनों को हकीकत में बदल सकता हैं?

तो आज इस पोस्ट में मैं आपको इन्हीं सवालों के जवाब देने की कोशिश करूँगा और आसान भाषा में पूरी गणित समझाऊंगा कि ब्लॉगिंग आपके लिए कितनी फायदेमंद हो सकती हैं। इसलिए आप ये आर्टिकल पूरा जरूर पढ़े।

Blogging Se Kitna Paisa Milta Hai?

तो देखिये दोस्त! blogging एक business की तरह हैं और इसे भी अलग अलग profession के लोगों द्वारा अलग अलग तरीकों से किया जाता हैं। तो ऐसे में इस बात की पूरी सम्भावना हैं कि blogging से होने वाली कमाई भी काफी अंतर देखने को मिलेगा।

अब सबसे पहले तो हम उन sources के बारे जानते हैं जिनकी मदद से एक blog पैसा बना सकता हैं या ब्लॉग को monetize किया जा सकता हैं।

एक blog से पैसे कैसे कमा सकते हैं?

ब्लॉग से पैसे कमाने के कई तरीके होते हैं जैसे – Ad Network, Affiliate Marketing, Sponsorship, Product/ Service/Course Selling, Private Advertisement या Blog/Website Selling आदि।

कई प्रोफेशनल ब्लॉगर तो एक साथ इन सभी तरीकों को apply करके भी earning कर रहे हैं तो वहीं एक नये ब्लॉगर के लिए सबसे ज्यादा पावरफुल तरीका होता हैं किसी भी Ad Network का use करके अपने ब्लॉग से पैसा कमाना।

कई blogger पार्ट टाइम ब्लॉगिंग करते हैं तो कुछ full time blogger हैं। वहीं कुछ pro blogger तो अपनी खुद की एक टीम बैठाकर ब्लॉग्गिंग करते हैं जिनके पासअलग अलग केटेगरी की multiple websites होती हैं।

तो इस प्रकार यहाँ एक बात तो आसानी से समझ आती हैं कि blogging से कमाई का कोई एक ही जरिया नहीं हैं बल्कि यहाँ तो आपको multiple option मिलते हैं अपने ब्लॉग से पैसे कमाने के।

और दूसरी बात ये कि ब्लॉगिंग में income की कोई fix limit नहीं हैं कि आपको यहाँ पर इतना पैसा तो मिलेगा ही। अब ये आप पर निर्भर करता हैं कि आप blog monetization के लिए कौनसा तरीका आजमाते हो और कितनी मेहनत करते हो।

आईये अब बात करते हैं कि blog monetization के अलग अलग तरीकों से कितना पैसा मिलता हैं।

1. Ad Network (Google Adsense, Media.net etc.):

ऑनलाइन Ad Network की दुनिया में सबसे पहले नाम आता हैं Google Adsense का। ये सबसे पॉपुलर Ad Network माना जाता हैं क्यूंकि आजकल अधिकांश वेबसाइट या ब्लॉग Google Adsense का ही use कर रही हैं। इसके साथ ही youtube पर भी आप जो वीडियो में Ad देखते हो वो भी Google Adsense द्वारा ही दिखाये जाते हैं।

इसके अंतर्गत Google Adsense द्वारा वेबसाइट पर ad दिखाए जाते हैं और जब कोई विजिटर उन ads पर क्लिक करता हैं तो Adsense उसके पैसे देता हैं। ये सारी earning US dollar में होती हैं और Advertisement का ये सारा सिस्टम CPC (Cost Per Click) के आधार पर काम करता हैं।

यानि यहाँ पर जो Ad दिखाए जाते हैं वह CPC के आधार पर अलग अलग rate के होते हैं जैसे -आपकी वेबसाइट पर एडसेंस द्वारा ad दिखाया गया जिसकी CPC हैं $0.10 तो जब यूजर उस ad पर क्लिक करेगा तो आपको उसके $0.10 मिलेंगे। इस प्रकार प्रत्येक Ad की CPC अलग अलग होती हैं।

और इस CPC का निर्धारण Advertisers द्वारा लगाई जाने वाली Bids (बोली) पर आधारित होता हैं। मतलब आसान भाषा में समझे तो ये हैं कि Advertisers ही गूगल एडसेंस को ये विज्ञापन प्रदान करते हैं। और ये Advertisers अलग अलग keywords के ऊपर आपस में ही बोली लगाते हैं।

इस तरह किसी एक कीवर्ड पर CPC का निर्धारण होता हैं लेकिन ये CPC हमेशा एक जैसी नहीं रहती ये कभी भी घटती बढ़ती रहती हैं। और इस प्रकार publishers (वेबसाइट या ब्लॉग owner) की कमाई भी कम ज्यादा होती रहती हैं।

अब बात करते हैं कि:-

bloggers की Adsense earning अलग अलग क्यों होती हैं?

normally सभी bloggers की earning में काफी अंतर देखने को मिलता हैं। तो इसके पीछे भी कई कारण हैं जैसे –

1. सभी bloggers अलग अलग category पर ब्लॉगिंग करते हैं तो उसके अनुसार ad CPC भी different मिलती हैं जैसे – tech, health and fitness और insurance जैसी category में आपको काफी ज्यादा high CPC के ad मिलते हैं तो वहीं बाकि general category जैसे News, Biography, History, Story, Shayri, Festival आदि पर बहुत ही कम ad CPC मिलती हैं।

2. कुछ bloggers सिर्फ एक ही particular niche पर ही काम करते हैं तो ऐसे में उनके ब्लॉग पर उसी केटेगरी के ads दिखाये जाते हैं और उनकी CPC ज्यादा होती हैं।

वहीं कुछ ब्लॉगर mix category पर काम करते हैं तो ऐसे में उनके ब्लॉग पर दिखाई जाने वाले ads की CPC बहुत ही low होती हैं लगभग $0.01 से $0.10 के बीच में।

3. आप ब्लॉग्गिंग किस language में करते हैं ये भी आपकी Adsense earning को बहुत ज्यादा प्रभावित करता हैं। जैसे – यदि आपका ब्लॉग Hindi Language में हैं तो आपको कम Adsense आपके ब्लॉग पर low CPC के ads दिखायेगा।

वहीं अगर आपका ब्लॉग English में हैं तो Adsense वहां high CPC के ads दिखायेगा।

4. Country- आप कौनसी country (देश) को टारगेट करते हुए ब्लॉगिंग कर रहे हैं। यानि सीधा सा अर्थ हैं कि आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक किस देश से आ रहा हैं। इससे भी Adsense की earning में काफी ज्यादा अंत देखने को मिलता हैं। जैसे – अगर आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक India, Pakistan, Nepal, Sri Lanka आदि देशों से आ रहा हैं तो ऐसे में आपको बहुत कम CPC मिलेगी।

वहीं अगर आपके ब्लॉग पर US, UK, Canada या यूरोपियन देशों से ट्रैफिक आता हैं तो ऐसे में उन countries में High CPC Ads दिखाये जाते हैं और ऐसे में आपकी Adsense से earning भी काफी अच्छी हो जाती हैं।

2. Affiliate Marketing:

बहुत से ब्लॉगर Affiliate Marketing करके भी अपने ब्लॉग से काफी पैसा कमाते हैं। Affiliate Marketing के सामने Adsense की earning कुछ भी नहीं हैं।

अंतर्गत एक bloggger अपने ब्लॉग पे multiple affiliate product को promote करके Adsense से भी कई गुना ज्यादा पैसा कमा सकता हैं।

अब ये आप पर निर्भर करता हैं कि आप कौनसा affiliate program ज्वाइन करते हो या किस product या Service को अपने blog द्वारा promote करते हो।

सभी Affiliate प्रोडक्ट की कमीशन भी अलग अलग होती हैं। जैसे – amazon के physical products को अपने ब्लॉग द्वारा promot करके sell करवाने पर आपको 1% से 10% तक का कमीशन मिलता हैं। ये कमीशन, बिकने वाले product की price पर निर्भर करता हैं।

इसके अलावा अगर आप किसी डिजिटल प्रोडक्ट/सर्विस जैसे Web Hosting, Software, App आदि को sell करवाते हो तो इसमें आपको बहुत high commission मिलता हैं।

3. Sponsership:

अंतर्गत कुछ कंपनिया direct अपने products या services को आपके ब्लॉग के माध्यम से promote करवाती हैं। इसमें प्रोडक्ट sell होना जरुरी नहीं हैं। सिर्फ आपको अपने ब्लॉग पे उस प्रोडक्ट या सर्विस का Advertisement करना होता हैं या उसके बारे में एक पोस्ट लिखनी होी ती हैं।

इसके लिए कंपनिया आपको अच्छा खासा पैसा देती हैं। लेकिन इस तरह की स्पोंसरशिप केवल उन्ही blogs को मिलती हैं जो एक particular टॉपिक पर बनाया गया हो और जिस पर हर महीने लाखों का ट्रैफिक आता हो।

4. खुद के Product/ Service/Course Selling करना:

ब्लॉगिंग के अलावा अगर आपका कोई बिज़नेस भी हैं तो उसे भी आप अपने ब्लॉग द्वारा प्रोमोट करके अपने बिज़नेस को और ज्यादा grow कर सकते हो।

इसके अलावा यदि आपके खुद के कोई प्रोडक्ट या सर्विस हैं तो उन्हें भी आप यहाँ से sell कर सकते हो। जैसे – Online Course, ebook आदि।

Conclusion:

तो इस प्रकार आप खुद ही अंदाजा लगा लीजिये कि आप ब्लॉग्गिंग से कितना ज्यादा पैसा कमा सकते हो। अब ये इस बात पर निर्भर करता हैं कि आप ब्लॉगिंग को एक बिज़नेस की तरह treat करते हो या फिर टाइम पास।

ब्लॉगिंग आजकल ऑनलाइन earning का एक बहुत ही अच्छा और genuine तरीका हैं और इसमें पैसे कमाने के भी कई तरीके होते हैं।

कुल मिलाकर संक्षेप में कहें तो ब्लॉग्गिंग से कमाई कई factors पर निर्भर करती हैं जैसे कि आप blogging का कौनसा तरीका (advertisement, affiliate etc.) use करते हो, किस niche/category का ब्लॉग बनाते हो, कौनसी country को टारगेट करते हो, किस language में ब्लॉग पोस्ट पोस्ट लिखते हो, आप कितने ब्लॉग चलाते हो, Full टाइम ब्लॉग्गिंग करते हो या पार्ट टाइम, आदि।

इसके साथ ही आपको ब्लॉग्गिंग का कितना अनुभव हैं, आपकी writing skill कैसी हैं, आपकी विश्लेषण क्षमता (analytical skill) कैसी हैं, आप कितना यूनिक content बना पाते हैं, आपको SEO का कितना नॉलेज हैं,

At Last:

तो फ्रेंड्स मुझे उम्मीद हैं कि अब आप अच्छे से जान गए होंगे कि Blogging Se Kitna Paisa Milta Hai या ब्लॉगिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता हैं। अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी हो तो कृपया इसे शेयर जरूर करें।

यदि कोई सवाल अब भी मन में उमड़ रहा हो वो भी नीचे कमेंट बॉक्स में कह डालिये। मैं जल्दी ही इनके जवाब देने की कोशिश करुंगा।

आप ये भी जरू पढ़े:

Leave a Reply